Home » Folktales For Kids » Folktales In Hindi (page 5)

Folktales In Hindi

Folktales In Hindi

परोपकारी बालक रामराव Hindi story of Courageous Boy

परोपकारी बालक रामराव Hindi story of Courageous Boy

बालक रामराव बंगलोर की पंद्रहवी बालचर सेना का सदस्य था। उसकी अवस्था दस वर्ष की थी। एक दिन वह एक घाट पर खड़ा था। देवांग जाति की पंद्रह वर्ष की एक कन्या वहाँ कपड़े धो रही थी। कपड़े धोते-धोते उस लड़की का पैर फिसल गया और वह गहरे पानी में पहुँच कर डुबकियाँ लेने लगी। बालक रामराव अपने सारे कपड़ो …

Read More »

गाँव को डूबने से बचाने वाला बालक Courage story in Hindi

गाँव को डूबने से बचाने वाला बालक

यूरोप में हालैंड देश का कुछ भाग समुंद्र की सबसे सतह से नीचा होने के कारण कभी-कभी समुंद्र का जल आकर उस भाग में बसे गाँव को डुबो देता था। इस दुःख से बचने के लिये वहाँ के लोगो ने समुंद्र के किनारे एक ऊँचा बाँध बना रखा था। फिर भी कभी-कभी जल का इतना वेग होता की वह बाँध …

Read More »

कैदी बालक की दया Mercy story in Hindi

कैदी बालक की दया

एक बालक को किसी अपराध में कैद की सज़ा हो गयी थी। एक बार अवसर पाकर वह जेल से भाग निकला। बड़ी भूख लगी थी, इसीलिये समीप के गाँव में उसने एक झोपडी में जाकर कुछ खाने को माँगा। झोपडी में एक अत्यन्त गरीब किसान परिवार रहता था। किसान ने कहा – “भैया! हम लोगो के पास कुछ भी नही …

Read More »

रेलगाड़ी को बचाने में प्राण देने वाला बालक Bravery story in Hindi

रेलगाड़ी को बचाने में प्राण देने वाला बालक

एक आदमी रेलवे में नदी के ऊपर पुल के चौकीदार का काम करता था। उसका एक चौदह लड़का भी उसी के साथ रहता था। एक दिन बड़ा तूफान आया और उसके साथ जोर का पानी। रात की गाड़ी आने के पहले पिता पुल देखने के लिए गया और लड़का घर में रहा। उसके थोड़ी देर बाद नदी में बाढ़ आयी …

Read More »

आप हाथी नहीं इंसान हैं

आप हाथी नहीं इंसान हैं

एक आदमी कहीं से गुजर रहा था, तभी उसने सड़क के किनारे बंधे हाथियों को देखा, और अचानक रुक गया। उसने देखा कि हाथियों के अगले पैर में एक रस्सी बंधी हुई है, उसे इस बात का बड़ा अचरज हुआ की हाथी जैसे विशालकाय जीव लोहे की जंजीरों की जगह बस एक छोटी सी रस्सी से बंधे हुए हैं! ये …

Read More »

ऊँची उड़ान

ऊँची उड़ान

गिद्धों का एक झुण्ड खाने की तलाश में भटक रहा था। उड़ते – उड़ते वे एक टापू पर पहुँच गए। वो जगह उनके लिए स्वर्ग के समान थी। हर तरफ खाने के लिए मेंढक, मछलियाँ और समुद्री जीव मौजूद थे और इससे भी बड़ी बात ये थी कि वहां इन गिद्धों का शिकार करने वाला कोई जंगली जानवर नहीं था और …

Read More »

संकट ग्रस्त जहाज को बचानेवाला दयालु बालक

कई वर्ष हुए, जाड़े के दिनों में समुंद्र के किनारे एक गाँव में शोर हुआ कि ‘एक जहाज थोड़ी दूर पर कीचड़ मे फँस गया है और उस पर बैठे हुए लोग बड़े संकट में हैं।’ इस बात को सुनते ही चारों ओर से लोग एकत्र होने लगे और चिन्ता करने लगे। उस समय वहाँ एक भी नाव न थी, …

Read More »

अनाथ बालक की दयालुता

अनाथ बालक की दयालुता

एक बड़े देश की रानी को बच्चों पर बड़ा प्रेम था। वह अनाथ बालकों को अपने खर्च से पालती-पोसती। उसने यह आदेश दे रखा था कि ‘कोई भी अनाथ बालक मिले, उसे तुरंत मेरे पास पहुँचाया जाय।’ एक दिन सिपहियों को रास्ते में एक छोटा बच्चा मिला। उन्होंने उसे लाकर रानी के हाथों में सौप दिया। रानी सहज स्नेह से …

Read More »

इब्राहिम लिंकन की दयालुता

इब्राहिम लिंकन की दयालुता

एक दिन इब्राहिम लिकंन अपने मित्रों के साथ शाम को टहलकर घर लोट रहे थे। उन्होंने देखा की सामने से एक घोड़ा आ रहा था। घोड़े की पीठ पर जीन कसी थी, लेकिन सवार उस पर नहीं था। घोड़े को देखते ही इब्रहिम ने कहा – ‘यह किसका घोडा है, इसका सवार कहा गया?’ मित्रों ने कहा – ‘किसी शराबी …

Read More »

दयालु मूलराज

दयालु मूलराज

लगभग नौ सौ वर्ष पहले की है, राजा भीमदेव गुजरात में राज्य करते थे। उनके एक लड़का था। नाम था मूलराज। लड़का होनहार था और था बड़ा दयालु। एक साल गुजरात में बरसात नही हुई। खेत सुख गये। एक गाँव के लोग राजा को लगान नही दे सकते। राजा के सिपहियों ने गाँव में जाकर उन लोगोके घरो में जो …

Read More »