Home » Folktales For Kids » Folktales In Hindi (page 11)

Folktales In Hindi

Folktales In Hindi

कबूतर

Pigeons

संध्या का समय हो चला था। महल के दीपक पंक्ति में रखे हुए टिमटिमा रहे थे। आती – जाती हवा में उनकी लौ लहरा रही थी। सुय्या एक खुरदरा, ऊनी कम्बल अपने इर्द – गिर्द लपेटे, महल के अतःपुर में बैठा हुआ जागते रहने की भरपूर कोशिश कर रहा था। उसी सुबह वहां बर्फ गिरी थी और कड़ाके की सर्दी …

Read More »

दरिद्र ब्राह्मण

Poor Brahmin

बहुत वर्ष पहले एक छोटे – से गाँव में एक गरीब, मगर भला ब्राह्मण रहता था। वह देवी का परम भक्त था और नित्य ही दुर्गा का नाम 108 बार लिखे बिना अन्न – जल कुछ भी ग्रहण नही करता था। सम्पन्न परिवारों में शादी – ब्याह या फिर अंतिम संस्कार करवाना ही उसकी जीविका का एकमात्र साधन था। परन्तु रोज …

Read More »

शामलाल नाई

Shamlal Nai - Indian Folktale

शामलाल बेहद संत स्वभाव और धार्मिक वृत्ति का व्यक्ति था। पेशे से वह नाई था। सामाजिक व्यवस्था में तब नाई छोटी जाति के माने जानते थे। शामलाल मानता था कि नीची जाति में जन्म होना, लोगों के पूर्व जन्म में किए गए दुष्कर्मों का फल है। और यह भी कि जैसे पारसमणि के छूते ही लोहा भी सोना हो जाता …

Read More »

बेटी का भाग्य – Daughter’s fate

बेटी का भाग्य

बेटी का भाग्य…..! “भगवान क्या लिख रहे हो, इतनी देर से?” देवदूत ने सृष्टि के निर्माता के कक्ष में आते हुवे कहा। भगवान् ने उसकी तरफ ध्यान दिए बगैर लिखना चालू रखा। देवदूत ने कहा: “सो जाइये भगवान् कई दिनों से आपने तनिक भी विश्राम नहीं किया, क्या लिख रहे है आप?” भगवान्: “भाग्य” देवदूत: “किसका?” भगवान: “है एक गाव …

Read More »

गधे की सोच – Thinking of Ass

गधे की सोच – Thinking of Ass

एक दिन एक किसान का गधा कुएँ में गिर गया । वह गधा घंटों ज़ोर -ज़ोर से रोता रहा और किसान सुनता रहा और विचार करता रहा कि उसे क्या करना चाहिऐ और क्या नहीं। अंततः उसने निर्णय लिया कि चूंकि गधा काफी बूढा हो चूका था,अतः उसे बचाने से कोई लाभ होने वाला नहीं था; और इसलिए उसे कुएँ …

Read More »

भूख – Hunger

Hunger

जिसके गवाह हम सब हैं, जिसके ज़िम्मेदार हम सब हैं। यह दर्दनाक घटना एक परिवार की है। जिसमें परिवार का मुखिया, उसकी पत्नी और दो बच्चे थे। जो जैसे तैसे अपना जीवन घसीट रहे थे। घर का मुखिया एक लम्बे अरसे से बीमार था। जो जमा पूंजी थी वह डॉक्टरों की फ़ीस और दवाखानों पर लग चुकी थी। लेकिन वह …

Read More »

दुनिया मेँ 3 तरह के लोग-There are 3 kind of people

दुनिया मेँ 3 तरह के लोग-There are 3 kind of people

दुनिया मेँ 3 तरह के लोग होते हैँ – दुखी, सुखी और भक्त| आभाव और निराशा के कारण दुखी आदमी हमेशा परेशान रहता है तो सुखी आदमी अपने सुख से उकता जाता है और वह ‘मन मांगे मोर’ की धारा मेँ बहता रहता है| विश्व के सम्पत्र राष्ट्रों के देश भारत के अध्यात्मिक ज्ञान की तरफ आकर्षित होते है तो …

Read More »

अपने अधिकारोँ का उपयोग लोकहित मेँ करेँ-Use Your Rights Properly

अपने अधिकारोँ का उपयोग लोकहित मेँ करेँ-Use Your Rights Properly

अपने अधिकारोँ का उपयोग लोकहित मेँ करेँ-Use Your Rights Properly एक अत्यंत निर्दई और क्रूर राजा था| दूसरोँ को पीड़ा देने मेँ उसे आनंद आता था| उसका आदेश था कि उसके राज्य मेँ एक अथवा दो आदमियों को फांसी लगनी ही चाहिए| उसके इस व्यवहार से प्रजा बहुत दुखी हो गई थी| एक दिन उस राजा के राज्य के कुछ …

Read More »

ईश्वर की मर्जी-God’s Will

God's Will

ईश्वर की मर्जी-God’s Will एक बच्चा अपनी माँ के साथ एक दुकान पर शॉपिंग करने गया तो दुकानदार ने उसकी मासूमियत देखकर उसको सारी टोप्फ़ियों के डिब्बे खोलकर कहा कि लो बेटा टॉफियां ले लो, पर उस बच्चे ने भी बड़े प्यार से उन्हें मना कर दिया| इसके बावजूद उस दूकानदार और उसकी माँ ने भी उसे बहुत कहा पर वह मना …

Read More »

जीवन तो कभी भी नष्ट हो जाएगा-Life May End Any Moment

जीवन तो कभी भी नष्ट हो जाएगा-Life May End Any Moment

जीवन तो कभी भी नष्ट हो जाएगा-Life May End Any Moment संत और सज्जन पुरुष जब ज्ञान को धारण करते है तो उनके मन में सम्मान का मोह और मद नष्ट हो जाता है पर वही ज्ञान दुष्टो को अहंकारी बना देता है| जिस प्रकार एकांत स्थान योिगयों को साधना के लिए प्रेिरत करता है वैसे कामी पुरुषों की काम …

Read More »