Home » Manjari Shukla

Manjari Shukla

I am writer, broadcaster, teacher and presenter of TV Programmes. I have penned more than 350 stories for children in English and Hindi. These stories have been published in various reputed children’s magazines like Nandan, Bal hans, Sneh, Sanskaar, Kadambini, Suman-saurabh, Magic-Pot, Sarita, Jaagran sakhi, Children’s World, Tinkle, Dimdima, Little Words and The Children’s magazines. My stories and articles have also been published in various journals and papers in India like Dainik Jaagran, Jansatta, Navbharat, Naidunia, Amar Ujala, Rashtriya Hindi Mail, The Pioneer, DNA, The chronicle and The Hindu. My Published Books are " Sweety's Rainy Day and Jadui Gubbare." I have received many awards also in writing. My work is also available on Net. I am Ph.D. in English Literature and hail from Lucknow. Presently I am working as an announcer in All India Radio in Allahabad. E-mail: manjarishukla28@gmail.com Present Address: क्वार्टर नंबर D-1433, इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटिड, रिफाइनरी टाउनशिप विलेज एन्ड पोस्ट - बहोली, पानीपत, हरयाणा - 132140

जानवरों की हास्यप्रद बाल-कहानी: अप्पू की पेंटिंग

अप्पू की पेंटिंग: जंगल के जानवरों की हास्यप्रद बाल-कहानी

अप्पू हाथी पूरे जंगल में अपना स्टूल लिए घूम रहा था पर मोंटू बन्दर उसे कहीं भी नज़र नहीं आ रहा था। थक हार कर अप्पू एक आम के पेड़ के तने से टिककर बैठ गया। अप्पू के बैठते ही पेड़ इतनी जोर से हिला कि हीरु तोते के हाथ से पका हुआ आम छूटकर सीधे अप्पू के सिर पर …

Read More »

जिंदगी से बड़ा इम्तिहान? असफलता में छिपी है सफलता

जिंदगी से बड़ा इम्तिहान? असफलता में छिपी है सफलता

चंद पंक्तियों को माता पिता के आँसुओं पर भारी रखकर चले जाना और बड़ी आसानी से लिख देना “मैं आपकी अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतर पाया… या फिर मेरा पेपर अच्छा नहीं हुआ, इसलिए मैं जा रहा हूँ हो सके तो मुझे माफ़ कर देना…”। बारहवीं की परीक्षा के मात्र दो पेपर होने के बाद ही समाचार पत्र मासूम बच्चों …

Read More »

Kids Funny Animal Story: Unexpected Laughter

Unexpected Laughter

Simile was an effervescent little cat who enjoyed laughing and giggling. She even laughed through her own troubles and did not need any company to ease her pain. On a Sunday morning, while she was going to market, Whitey cat met her on the way. She admired Smile’s red hat and asked if she could spare that hat for her. …

Read More »

टॉफी चोर: बच्चों के लिए रोमांचक जासूसी कहानी

टॉफी चोर: मंजरी शुक्ला

“केले के छिलकों का ढेर लगा हुआ है और तुम कह रहे हो कि टोनी केले नहीं खाकर तुम्हारी टॉफ़ी चुराकर खाता है” मम्मी ने नाराज़ होते हुए गिल्लू से कहा। गिल्लू आश्चर्य से टोनी को देखे जा रहा था। टोनी के चारों तरफ घूमने के बाद वह बोला – “तो अगर टोनी मेरी टॉफ़ी नहीं खाता है तो मेरी …

Read More »

होली स्पेशल बाल कहानी: राजा की होली केक के संग

होली स्पेशल: राजा की होली केक के संग

मिट्टी की सोंधी महक के साथ ही ताजे केक की सुगंध हवेली के चारों ओर फ़ैल चुकी थी। पुरानी सी हलके पीले रंग की हवेली, जो अब तक गुमनाम पड़ी हुई थी आजकल “केक वाली हवेली” के नाम से जानी जाती थी। “केक वाली हवेली” का नाम गाँव वालों का ही दिया हुआ था क्योंकि उस हवेली को दूर से …

Read More »

एक गरीब की दर्द भरी कहानी: सेकंड हैंड

एक गरीब की दर्द भरी कहानी: सेकंड हैंड

हर इतवार को गाड़ी धोने वाले राममेहर का चेहरा आज ख़ुशी से चमक रहा था। जैसे ही मैंने कार की चाभी पकड़ाई, वह हँसते हुए बोला – “साइकिल बहुत पुरानी हो गई थी, तो एक्टिवा ले ली मैंने…” मैंने कहा-“अरे वाह, आज तो नाश्ते के साथ मिठाई भी खाकर जाना”। “साहब एक बार ज़रा देख लेते” वह चहकते हुए बोला। …

Read More »

और रंग मुस्कुरा दिए: मंजरी शुक्ला

और रंग मुस्कुरा दिए: मंजरी शुक्ला

होली का त्यौहार आने वाला था। सारे घर में खुशी की लहर दौड़ रही थी। पापा मिठाइयों की लिस्ट बनाने में व्यस्त थे तो मम्मी नए कपड़े और पूजा का सामान लिख रही थी। मैं अपने दोस्तों के साथ ढेर सारे रंग और पिचकारियों के बारे में बात करता रहता था। सभी चिंता में थे कि कौन सी वाली पिचकारी …

Read More »

वीडियो गेम: मंजरी शुक्ला की प्रेरणादायक हिंदी कहानी

वीडियो गेम: मंजरी शुक्ला की प्रेरणादायक हिंदी कहानी

चीनू की आँखों से लगातार पानी निकल रहा था पर चीनू की आँखें वीडियो गेम पर टिकी हुई थी। वह एक हाथ से बार-बार अपनी आँखें मसलता और फ़िर अपना चश्मा ठीक करते हुए तेजी से बटन दबाना शुरू कर देता। जैसे ही उसने दसवाँ लेवल पार कर लिया। वह ख़ुशी से उछल पड़ा और सोफ़े पर ही कूदने लगा। …

Read More »

हँस दी गुड़िया: आजादी पाने की चाह

हँस दी गुड़िया

शो केस पर सजी हुई रंगबिरंगी गुड़िया बहुत देर से सड़क की और देख रही थी। कितने दिन हो गए थे, उसे फ़ैक्टरी से बन कर आये हुए, पर कोई भी अब तक खरीदने नहीं आया था।काँच की दीवार में रहना उसे बिलकुल पसंद नहीं था।उसने साथ खड़े झबरीले पूँछ वाले से मोती कुत्ते से पूछा – “दुकान के सभी …

Read More »

शिबू का नया साल: गरीब विद्यार्थी की प्रेरक कहानी

शिबू का नया साल: गरीब विद्यार्थी की प्रेरक कहानी

नया साल आने वाला था और क्लास के सभी बच्चों में खुसुर पुसुर शुरू हो गई थी। सबको पता था कि इस साल भी प्रिंसिपल सर बच्चों के साथ नए साल पर कोई बढ़िया सा आइडिया लेकर आएँगे। क्लास का मॉनीटर दीपेश डस्टर से दस बार ब्लैक बोर्ड पोंछ चुका था पर प्रिंसिपल सर ने अभी तक एंट्री नहीं ली …

Read More »